Hare Krishna Mahamantra

हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे || हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे||

Search within this blog

Sri Dasavatara Stotra - Prayer Glorifying the Ten Incarnations of the Lord

Sri Dasavatara Stotra is written by Srila Jayadeva Goswami

(1)
pralaya-payodhi-jale dhåtavän asi vedaà
vihita-vahitra-caritram akhedam
keçava dhåta-ména-çaréra jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 1
Matsya Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of a fish! All glories to You! You easily acted as a boat in the form of a giant fish just to give protection to the Vedas, which had become immersed in the turbulent sea of devastation.

(2)
kñitir iha vipulatare tiñöhati tava påñöhe
dharaëi-dharaëa-kiëa-cakra-gariñöhe
keçava dhåta-kürma-çaréra jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 2
Kachhap Avtaar

O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of a tortoise! All glories to You! In this incarnation as a divine tortoise the great Mandara Mountain rests upon Your gigantic back as a pivot for churning the ocean of milk. From holding up the huge mountain a large scar like depression is put in Your back, which has become most glorious.

(3)
vasati daçana-çikhare dharaëé tava lagnä
çaçini kalaìka-kaleva nimagnä
keçava dhåta-çükara-rüpa jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 3
Varaah Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of a boar! All glories to You! The earth, which had become immersed in the Garbhodaka Ocean at the bottom of the universe, sits fixed upon the tip of Your tusk like a spot upon the moon.

(4)
tava kara-kamala-vare nakham adbhuta-çåìgaà
dalita-hiraëyakaçipu-tanu-bhåìgam
keçava dhåta-narahari-rupa jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 4
Narsingh Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of half-man, half-lion! All glories to You! Just as one can easily crush a wasp between one’s fingernails, so in the same way the body of the wasp like demon Hiraëyakaçipu has been ripped apart by the wonderful pointed nails on Your beautiful lotus hands.

(5)
chalayasi vikramaëe balim adbhuta-vämana
pada-nakha-néra-janita-jana-pävana
keçava dhåta-vämana-rüpa jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 5
Vaaman Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of a dwarfbrähmaëa! All glories to You! O wonderful dwarf, by Your massive steps You deceive King Bali, and by the Ganges water that has emanated from the nails of your lotus feet, You deliver all living beings within this world.

(6)
kñatriya-rudhira-maye jagad-apagata-päpaà
snapayasi payasi çamita-bhava-täpam
keçava dhåta-bhågupati-rüpa jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 6
Parasurama Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of Bhågupati [Paraçuräma]! All glories to You! At Kurukñetra You bathe the earth in the rivers of blood from the bodies of the demoniac kñatriyas that You have slain. The sins of the world are washed away by You, and because of You people are relieved room the blazing fire of material existence.

(7)
vitarasi dikñu raëe dik-pati-kamanéyaà
daça-mukha-mauli-balià ramaëéyam
keçava dhåta-räma-sarira jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 7
Ram Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who haze assumed the form of Rämacandra! All glories to You! In the battle of Laìkä You destroy the ten-headed demon
Rävaëa and distribute his heads as a delightful offering to the presiding deities of the ten directions, headed by Indira. This action was long desired by all of them, who were much harassed by this monster.

(8)
vahasi vapuñi viçade vasanaà jaladäbhaà
hala-hati-bhéti-milita-yamunäbham
keçava dhåta-haladhara-rüpa jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 8
Balaram Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of Balaräma, the yielder of the plow! All glories to You! On Your brilliant white body You wear garments the color of a fresh blue rain cloud. These garments are colored like the beautiful dark hue of the River Yamunä, who feels great fear due to the striking of Your plowshare.

(9)
nindasi yajïa-vidher ahaha çruti-jätaà
sadaya-hådaya darçita-paçu-ghätam
keçava dhåta-buddha-sarira jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 9
Buddha Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of Buddha! All glories to You! O Buddha of compassionate heart, you decry the slaughtering of poor animals performed according to the rules of Vedic sacrifice.

(10)
mleccha-nivaha-nidhane kalayasi karavälaà
dhümaketum iva kim api karälam
keçava dhåta-kalki-sarira jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 10
Kalki Avtaar
O Keçava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed the form of Kalki! All glories to You! You appear like a comet and carry a terrifying sword for bringing about the annihilation of the wicked barbarian men at the end of the Kali-yuga.

(11)
çré-jayedeva-kaver idam uditam udäraà
çåëu sukha-daà çubha-daà bhava-säram
keçava dhåta-daça-vidha-rüpa jaya jagad-éça hare

Sri Dasavatar Stotra - Verse 11
Dasavatar Stotra by Jayadeva Goswami
O Kesava! O Lord of the universe! O Lord Hari, who have assumed these ten different forms of incarnation! All glories to You! O readers, please hear this hymn of the poet Jayadeva, which is most excellent, an awarder of happiness, a bestower of auspiciousness, and it is the best thing in this dark world.

(12)
vedän uddharate jaganti vahate bhü-golam udbibhrate
daityaà därayate balià chalayate kñatra-kñayaà kurvate
paulastyaà jayate halaà kalayate käruëyam ätanvate
mlecchän mürchayate daçäkriti-kåte kåñëaya tubhyaà namaù

Sri Dasavatar Stotra - Verse 12
Dash Avtaar

Meaning:
O Lord Kåñëa, I offer my obeisances unto You, who appear in the forms of these ten incarnations. In the form of Matsya You rescue the Vedas, and as Kürma You bear the Mandara Mountain on Your back. As Varäha You lift the earth with Your tusk, and in the form of Narasiàha You tear open the chest of the daitya Hiraëyakaçipu. In the form of Vämana You trick the daitya king Bali by asking him for only three steps of land, and then You take away the whole universe from him by expanding Your steps. As Paraçuräma You slay all of the wicked kñatriyas, and as Rämacandra You conquer the raksasa king Rävaëa. In the form of Balaräma You carry a plow with which You subdue the wicked and draw toward You the River Yamunä. As Lord Buddha You show compassion toward all the living beings suffering in this world and at the end of the Kali-yuga You appear as Kalki to bewilder the mlecchas [degraded low-class men].

Watch the video for learning Sri Dasavatara Stotra:


Also go through below interesting posts:

Bhajans of Shri Krishna:
1. Krishna Jinka Naam Hai, Gokul Jinka Dham Hai...
http://krishnaseva.blogspot.com/2014/05/bhajan-krishna-jinka-naam-hai-in.html
2. Jai Radha Madhav, Jai Kunj Bihari...
http://krishnaseva.blogspot.in/2014/05/prayer-bhajan-jai-radha-madhav-in.html
3. Kirtan with names of Sri Radha Krishna
http://krishnaseva.blogspot.com/2014/05/hare-naam-kirtan.html

Other Prayers:
4. Sri Sri Damodarashtakam (Prayer to Krishna in month of Kartik)...
http://krishnaseva.blogspot.com/2014/05/sri-sri-damodarashtakam-in-sanskrit.html
5. Narsingh Aarti...
http://krishnaseva.blogspot.com/2014/05/shri-narsingh-aarti-in-english-with.html
6. Sri Sri Shikshashtakam (Instructions given by Chaitanya Mahaprabhu)...
http://krishnaseva.blogspot.com/2014/04/shikshashtakam-in-sanskrit-hindi-and.html

*** Hare Krishna ***

कबीर दास जी के प्रसिद्ध दोहे - हिंदी में - अर्थ सहित - Kabir Das Dohe in Hindi with meaning

Bhagat Kabir Das Ji


 बुरा जो देखन मैं चला, बुरा मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा कोय।
अर्थ : जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा मिला. जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा तो पाया कि मुझसे बुरा कोई नहीं है.

 पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।
अर्थ : बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान हो सके. कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी होगा.

 साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय,
सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।
अर्थ : इस संसार में ऐसे सज्जनों की जरूरत है जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है. जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे.

तिनका कबहुँ ना निन्दिये, जो पाँवन तर होय,
कबहुँ उड़ी आँखिन पड़े, तो पीर घनेरी होय।
अर्थ : कबीर कहते हैं कि एक छोटे से तिनके की भी कभी निंदा करो जो तुम्हारे पांवों के नीचे दब जाता है. यदि कभी वह तिनका उड़कर आँख में गिरे तो कितनी गहरी पीड़ा होती है !

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय,
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय।
अर्थ : मन में धीरज रखने से सब कुछ होता है. अगर कोई माली किसी पेड़ को सौ घड़े पानी से सींचने लगे तब भी फल तो ऋतु  आने पर ही लगेगा !

माला फेरत जुग भया, फिरा मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।
अर्थ : कोई व्यक्ति लम्बे समय तक हाथ में लेकर मोती की माला तो घुमाता है, पर उसके मन का भाव नहीं बदलता, उसके मन की हलचल शांत नहीं होती. कबीर की ऐसे व्यक्ति को सलाह है कि हाथ की इस माला को फेरना छोड़ कर मन के मोतियों को बदलो या  फेरो.

जाति पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान,
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।
अर्थ : सज्जन की जाति पूछ कर उसके ज्ञान को समझना चाहिए. तलवार का मूल्य होता है कि उसकी मयान काउसे ढकने वाले खोल का.

दोस पराए देखि करि, चला हसन्त हसन्त,
अपने याद आवई, जिनका आदि अंत।
अर्थ : यह मनुष्य का स्वभाव है कि जब वह  दूसरों के दोष देख कर हंसता है, तब उसे अपने दोष याद नहीं आते जिनका आदि है अंत.

जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,
मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ।
अर्थ : जो प्रयत्न करते हैं, वे कुछ कुछ वैसे ही पा ही लेते  हैं जैसे कोई मेहनत करने वाला गोताखोर गहरे पानी में जाता है और कुछ ले कर आता हैलेकिन कुछ बेचारे लोग ऐसे भी होते हैं जो डूबने के भय से किनारे पर ही बैठे रह जाते हैं और कुछ नहीं पाते.

बोली एक अनमोल है, जो कोई बोलै जानि,
हिये तराजू तौलि के, तब मुख बाहर आनि।
अर्थ : यदि कोई सही तरीके से बोलना जानता है तो उसे पता है कि वाणी एक अमूल्य रत्न है। इसलिए वह ह्रदय के तराजू में तोलकर ही उसे मुंह से बाहर आने देता है.

अति का भला बोलना, अति की भली चूप,
अति का भला बरसना, अति की भली धूप।
अर्थ :  तो अधिक बोलना अच्छा है, ही जरूरत से ज्यादा चुप रहना ही ठीक हैजैसे बहुत अधिक वर्षा भी अच्छी नहीं और बहुत अधिक धूप भी अच्छी नहीं है.

निंदक नियरे राखिएऑंगन कुटी छवाय,बिन पानीसाबुन बिनानिर्मल करे सुभाय।
अर्थ : जो हमारी निंदा करता हैउसे अपने अधिकाधिक पास ही रखना चाहिए। वह तो बिना साबुन और पानी के हमारी कमियां बता कर हमारे स्वभाव को साफ़ करता है.

Sant Kabir Das Ji

दुर्लभ मानुष जन्म है, देह बारम्बार,
तरुवर ज्यों पत्ता झड़े, बहुरि लागे डार।
अर्थइस संसार में मनुष्य का जन्म मुश्किल से मिलता है. यह मानव शरीर उसी तरह बार-बार नहीं मिलता जैसे वृक्ष से पत्ता  झड़ जाए तो दोबारा डाल पर नहीं
लगता.

कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर,
ना काहू से दोस्ती, काहू से बैर.
अर्थ : इस संसार में आकर कबीर अपने जीवन में बस यही चाहते हैं कि सबका भला हो और संसार में यदि किसी से दोस्ती नहीं तो दुश्मनी भी हो !

हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना,
आपस में दोउ लड़ी-लड़ी  मुए, मरम कोउ जाना।
अर्थ : कबीर कहते हैं कि हिन्दू राम के भक्त हैं और तुर्क (मुस्लिम) को रहमान प्यारा है. इसी बात पर दोनों लड़-लड़ कर मौत के मुंह में जा पहुंचे, तब भी दोनों में से कोई सच को जान पाया।

कहत सुनत सब दिन गए, उरझि सुरझ्या मन.
    कही कबीर चेत्या नहीं, अजहूँ सो पहला दिन.
अर्थ : कहते सुनते सब दिन निकल गए, पर यह मन उलझ कर सुलझ पाया. कबीर कहते हैं कि अब भी यह मन होश में नहीं आता. आज भी इसकी अवस्था पहले दिन के समान ही है

कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई.
 बगुला भेद जानई, हंसा चुनी-चुनी खाई.
अर्थ :कबीर कहते हैं कि समुद्र की लहर में मोती आकर बिखर गए. बगुला उनका भेद नहीं जानता, परन्तु हंस उन्हें चुन-चुन कर खा रहा है. इसका अर्थ यह है कि किसी भी वस्तु का महत्व जानकार ही जानता है।

जब गुण को गाहक मिले, तब गुण लाख बिकाई.
 जब गुण को गाहक नहीं, तब कौड़ी बदले जाई.
अर्थ : कबीर कहते हैं कि जब गुण को परखने वाला गाहक मिल जाता है तो  गुण की कीमत होती है. पर जब ऐसा गाहक नहीं मिलता, तब गुण कौड़ी के भाव चला जाता है.

कबीर कहा गरबियो, काल गहे कर केस.
 ना जाने कहाँ मारिसी, कै घर कै परदेस

अर्थ : कबीर कहते हैं कि हे मानव ! तू क्या गर्व करता है? काल अपने हाथों में तेरे केश पकड़े हुए है. मालूम नहीं, वह घर या परदेश में, कहाँ पर तुझे मार डाले.

पानी केरा बुदबुदा, अस मानुस की जात.
 एक दिना छिप जाएगा,ज्यों तारा परभात.
अर्थ : कबीर का कथन है कि जैसे पानी के बुलबुले, इसी प्रकार मनुष्य का शरीर क्षणभंगुर है।जैसे प्रभात होते ही तारे छिप जाते हैं, वैसे ही ये देह भी एक दिन नष्ट हो जाएगी.

हाड़ जलै ज्यूं लाकड़ी, केस जलै ज्यूं घास
 सब तन जलता देखि करि, भया कबीर उदास.
अर्थ : यह नश्वर मानव देह अंत समय में लकड़ी की तरह जलती है और केश घास की तरह जल उठते हैं. सम्पूर्ण शरीर को इस तरह जलता देख, इस अंत पर कबीर का मन उदासी से भर जाता है. —

जो उग्या सो अन्तबै, फूल्या सो कुमलाहीं।
जो चिनिया सो ढही पड़े, जो आया सो जाहीं।
अर्थ : इस संसार का नियम यही है कि जो उदय हुआ है,वह अस्त होगा। जो विकसित हुआ है वह मुरझा जाएगा. जो चिना गया है वह गिर पड़ेगा और जो आया है वह जाएगा.

झूठे सुख को सुख कहे, मानत है मन मोद.
 खलक चबैना काल का, कुछ मुंह में कुछ गोद.
अर्थ : कबीर कहते हैं कि अरे जीव ! तू झूठे सुख को सुख कहता है और मन में प्रसन्न होता है? देख यह सारा संसार मृत्यु के लिए उस भोजन के समान है, जो कुछ तो उसके मुंह में है और कुछ गोद में खाने के लिए रखा है.

ऐसा कोई ना मिले, हमको दे उपदेस.
 भौ सागर में डूबता, कर गहि काढै केस.
अर्थ : कबीर संसारी जनों के लिए दुखित होते हुए कहते हैं कि इन्हें कोई ऐसा पथप्रदर्शक   मिला जो उपदेश देता और संसार सागर में डूबते हुए इन प्राणियों को अपने हाथों से केश पकड़ कर निकाल लेता.


Kabir Das Ji


संत ना छाडै संतई, जो कोटिक मिले असंत
चन्दन भुवंगा बैठिया,  तऊ सीतलता तजंत।
अर्थ : सज्जन को चाहे करोड़ों दुष्ट पुरुष मिलें फिर भी वह अपने भले स्वभाव को नहीं छोड़ता. चन्दन के पेड़ से सांप लिपटे रहते हैं, पर वह अपनी शीतलता नहीं छोड़ता.

 कबीर तन पंछी भया, जहां मन तहां उडी जाइ.
 जो जैसी संगती कर, सो तैसा ही फल पाइ.
अर्थ :कबीर कहते हैं कि संसारी व्यक्ति का शरीर पक्षी बन गया है और जहां उसका मन होता है, शरीर उड़कर वहीं पहुँच जाता है। सच है कि जो जैसा साथ करता है, वह वैसा ही फल पाता है.

तन को जोगी सब करें, मन को बिरला कोई.
 सब सिद्धि सहजे पाइए, जे मन जोगी होइ.
अर्थ : शरीर में भगवे वस्त्र धारण करना सरल है, पर मन को योगी बनाना बिरले ही व्यक्तियों का काम है य़दि मन योगी हो जाए तो सारी सिद्धियाँ सहज ही प्राप्त हो जाती हैं.

कबीर सो धन संचे, जो आगे को होय.
 सीस चढ़ाए पोटली, ले जात देख्यो कोय.
अर्थ : कबीर कहते हैं कि उस धन को इकट्ठा करो जो भविष्य में काम आए. सर पर धन की गठरी बाँध कर ले जाते तो किसी को नहीं देखा.
 —

माया मुई मन मुआ, मरी मरी गया सरीर.
 आसा त्रिसना मुई, यों कही गए कबीर .
अर्थ : कबीर कहते हैं कि संसार में रहते हुए  माया मरती है मनशरीर जाने कितनी बार मर चुका पर मनुष्य की आशा और तृष्णा कभी नहीं मरती, कबीर ऐसा कई बार कह चुके हैं.
  

मन हीं मनोरथ छांड़ी दे, तेरा किया होई.
 पानी में घिव निकसे, तो रूखा खाए कोई.
अर्थ : मनुष्य मात्र को समझाते हुए कबीर कहते हैं कि मन की इच्छाएं छोड़ दो , उन्हें तुम अपने बूते पर पूर्ण नहीं कर सकते। यदि पानी से घी निकल आए, तो रूखी रोटी कोई खाएगा.

दुःख में सुमिरन सब करे सुख में करै कोय।
जो सुख में सुमिरन करे दुःख काहे को होय
अर्थ : कबीर दास जी कहते हैं कि दुःख के समय सभी भगवान् को याद करते हैं पर सुख में कोई नहीं करता। यदि सुख में भी भगवान् को याद किया जाए तो दुःख हो ही क्यों !

साईं इतना दीजिये, जा मे कुटुम समाय
मैं भी भूखा रहूँ, साधु ना भूखा जाय
अर्थकबीर दस जी कहते हैं कि परमात्मा तुम मुझे इतना दो कि जिसमे बस मेरा गुजरा चल जाये , मैं खुद भी अपना पेट पाल सकूँ और आने वाले मेहमानो को भी भोजन करा सकूँ।

काल करे सो आज कर, आज करे सो अब
पल में प्रलय होएगी,बहुरि करेगा कब
अर्थ : कबीर दास जी समय की महत्ता बताते हुए कहते हैं कि जो कल करना है उसे आज करो और और जो आज करना है उसे अभी करो , कुछ ही समय में जीवन ख़त्म हो जायेगा फिर तुम क्या कर पाओगे !!

लूट सके तो लूट ले,राम नाम की लूट
पाछे फिर पछ्ताओगे,प्राण जाहि जब छूट
अर्थ : कबीर दस जी कहते हैं कि अभी राम नाम की लूट मची है , अभी तुम भगवान् का जितना नाम लेना चाहो ले लो नहीं तो समय निकल जाने पर, अर्थात मर जाने के बाद पछताओगे कि मैंने तब राम भगवान् की पूजा क्यों नहीं की

माँगन मरण समान है, मति माँगो कोई भीख
माँगन ते मारना भला, यह सतगुरु की सीख
अर्थ : माँगना मरने के बराबर है ,इसलिए किसी से भीख मत मांगो . सतगुरु कहते हैं कि मांगने से मर जाना बेहतर है , अर्थात पुरुषार्थ से स्वयं चीजों को प्राप्त करो , उसे किसी से मांगो मत।

साधू भूखा भाव का, धन का भूखा नाहिं
 धन का भूखा जी फिरै, सो तो साधू नाहिं।
अर्थ : कबीर दास जी कहते कि साधू हमेशा करुणा और प्रेम का भूखा होता और कभी भी धन का भूखा नहीं होता| और जो धन का भूखा होता है वह साधू नहीं हो सकता|

जग में बैरी कोई नहीं, जो मन शीतल होय
यह आपा तो डाल दे, दया करे सब कोय।
अर्थ : कबीर दास जी कहते है अगर हमारा मन शीतल है तो इस संसार में हमारा कोई बैरी नहीं हो सकता| अगर अहंकार छोड़ दें तो हर कोई हम पर दया करने को तैयार हो जाता है|

जैसा भोजन खाइये , तैसा ही मन होय
जैसा पानी पीजिये, तैसी वाणी होय।
अर्थ : कबीर दास जी कहते है कि हम जैसा भोजन करते है वैसा ही हमारा मन हो जाता है और हम जैसा पानी पीते है वैसी ही हमारी वाणी हो जाती है|

कुटिल वचन सबतें बुरा, जारि करै सब छार
साधु वचन जल रूप है, बरसै अमृत धार।
अर्थ : बुरे वचन विष के समान होते है और अच्छे वचन अमृत के समान लगते है|


Also read post on Bhagavad Gita which is key to solve to solve all problems and questions in life:
http://krishnaseva.blogspot.in/2015/03/read-bhagavad-gita-key-to-solve-all.html

To watch Audio-Video of Bhagavad Gita on YouTube, visit the below page:
http://krishnaseva.blogspot.in/2014/05/audio-book-of-bhagavad-gita-as-it-is.html

*** Hare Krishna ***