Hare Krishna Mahamantra

हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे || हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे||

Search within this blog

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले - Itna Toh Karna Swami Jab Prann Tan Se Nikle - Bhajan

Sri Radha Krishna - Itna Toh Karna Swami Jab Prann Tan Se Nikle


इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले - २
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से निकले 

श्री गंगा जी का तट हो,
यमुना का वंशीवट हो
मेरा सांवरा निकट हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

पीताम्बरी कसी हो
छवि मन में यह बसी हो
होठों पे कुछ हसी हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

श्री वृन्दावन का स्थल हो
मेरे मुख में तुलसी दल हो
विष्णु चरण का जल हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

जब कंठ प्राण आवे
कोई रोग ना सतावे
यम दर्शना दिखावे
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

उस वक़्त जल्दी आना
नहीं श्याम भूल जाना
राधा को साथ लाना
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

सुधि होवे नाही तन की
तैयारी हो गमन की
लकड़ी हो ब्रज के वन की
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

एक भक्त की है अर्जी
खुदगर्ज की है गरजी
आगे तुम्हारी मर्जी
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

ये नेक सी अरज है
मानो तो क्या हरज है
कुछ आप का फरज है
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

Watch the video of this bhajan:


Also check following bhajans:

ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां - Thumak Chalat Ram Chandra

 

पायो जी मैंने राम रतन धन पायो - Payo Ji Maine Ram Ratan Dhan Paayo

 

सीता राम सीता राम सीता राम कहिये - Sita Ram Sita Ram Sita Ram Kahiye

 

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार - Tera Raam Ji Karenge Bera Paar

 

सूरज की गर्मी से जलते हुए - Suraj Ki Garmi Se Jalte Hue Mann Ko

 

सुख के सब साथी दुःख में ना कोई - Sukh Ke Sab Sathi Dukh Me Na Koi

 

कभी कभी भगवान् को भी भक्तों से काम पड़े - Kabhi Kabhi Bhagwan Ko Bhi Bhaktoin Se Kaam Pade

 

अच्युतम केशवं राम नारायणं अच्युता अष्टकम - Achyutam Keshavam Ram Narayanam - Achyutam Ashtakam



*** Hare Krishna ***