Hare Krishna Mahamantra

हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे || हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे||

Search within this blog

कभी कभी भगवान् को भी भक्तों से काम पड़े - Kabhi Kabhi Bhagwan Ko Bhi Bhaktoin Se Kaam Pade - Bhajan

कभी कभी भगवान् को भी भक्तों से काम पड़े - Kabhi Kabhi Bhagwan Ko Bhi Bhaktoin Se Kaam Pade - Bhajan Lyrics

कभी कभी भगवान् को भी भक्तों से काम पड़े ।
जाना था गंगा पार प्रभु केवट की नाव चढ़े ॥

अवध छोड़ प्रभु वन को धाये,
सिया राम लखन गंगा तट आये ।
केवट मन ही मन हर्षाये,
घर बैठे प्रभु दर्शन पाए ।
हाथ जोड़ कर प्रभु के आगे केवट मगन खड़े ॥

प्रभु बोले तुम नाव चलाओ,
अरे पार हमे केवट पहुँचाओ ।
केवट बोला सुनो हमारी,
चरण धुल की माया भारी ।
मैं गरीब नैया मेरी नारी ना होए पड़े ॥

चली नाव गंगा की धारा,
सिया राम लखन को पार उतारा ।
प्रभु देने लगे नाव उतराई,
केवट कहे नहीं रागुराई ।
पार किया मैंने तुमको, अब तू मोहे पार करे ॥

केवट दोड़ के जल भर ले आया,
चरण धोये चरणामृत पाया ।
वेद ग्रन्थ जिन के गुण गाये,
केवट उनको नाव चढ़ाए ।
बरसे फूल गगन से ऐसे,
भक्त के भाग्य जगे ॥

Watch Video of this bhajan:

Also check following bhajans:

ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां - Thumak Chalat Ram Chandra

 

पायो जी मैंने राम रतन धन पायो - Payo Ji Maine Ram Ratan Dhan Paayo

 

सीता राम सीता राम सीता राम कहिये - Sita Ram Sita Ram Sita Ram Kahiye

 

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार - Tera Raam Ji Karenge Bera Paar

 

सूरज की गर्मी से जलते हुए - Suraj Ki Garmi Se Jalte Hue Mann Ko

 

सुख के सब साथी दुःख में ना कोई - Sukh Ke Sab Sathi Dukh Me Na Koi

 

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले - Itna Toh Karna Swami Jab Prann Tan Se Nikle


अच्युतम केशवं राम नारायणं अच्युता अष्टकम - Achyutam Keshavam Ram Narayanam - Achyutam Ashtakam


*** Hare Krishna ***